ऊंचा उठना है तो तीतली से सबक लो!

ऊंचा उठना है तो तीतली से सबक लो!

ऊंचा उठना है तो तीतली से सबक लो!

 कद छोटा मगर ऊंची  उड़ान होती है !!खुद को जो मिटा देते हैं दूसरों के लिए !उन्हीं को सबसे अलग पहचान होती है!!
इश्क के गुलशन को गुले गुलजार ना कर !ये नदान इंसान किसी से प्यार ना कर!! बहुत धोखे देते हैं मोहब्बत में हुस्न वाले !इन हसीनों का भूल कर भी ऐतबार ना कर!!
आंखों में रहा दिल में उतरकर नहीं देखा !कश्ती के मुसाफिर ने समंदर नहीं देखा !!और पत्थर कहता है मुझे मेरा चाहने वाला! अरे मैं मॉम हूं उसने मुझे छू कर नहीं देखा!!
अपने दिल का प्यार परखना छोड़ दिया !कितने किए सितम हिसाब रखना छोड़ दिया !!डरता हूं किसी ख्वाबों में भी आप सितम ना करें !इसलिए आंखों में भी ख्वाब रखना छोड़ दिया!!

Leave a Reply