जिंदिगी भर  रुलाने  के लिये !

जिंदिगी भर  रुलाने  के लिये !

हजारों  खुशिया कम है ! गम एक  भुलाने के लिये !

एक गम काफी है ! जिंदिगी भर  रुलाने  के लिये !!

हुशन  जवानी पर  एतबार  करने वाले अक्सर धोखा  खाते है !

बड़े  कातिल  है ये  नशीले  नयन  वाले मगर बेगुनाह नज़र आते  है !!

Leave a Reply