तुम्हारी जुल्फों की साये में शाम कर लूंगा !

तुम्हारी जुल्फों की साये में शाम कर लूंगा !

तुम्हारी जुल्फों की साये में शाम कर लूंगा !
सफर इस उम्र का पल में तमाम कर लूंगा !!
नजर मिलाई तो पूछूंगा इश्क का अन्जाम  !
नजर झुकाई तो खली सलाम कर लूंगा !!

Leave a Reply