तेरे मुहब्बत का शिकार हुआ है !

तेरे मुहब्बत का शिकार हुआ है !

तेरे मुहब्बत का शिकार हुआ है,
हाय बेवफा दिल मेरा !
कैसे दिखाऊ मैं जख्म दिल का ,
जब पूछते है लोग हाल मेरा !!

Tere muhabbat ka shikaar hua hai,

Haay bevapha dil mera !

Kaise dikhaoo main jakhm dil ka ,

Jab poochhate hai log haal mera !!

Leave a Reply