बैठे बैठे यूं इतराना ठीक नहीं !

बैठे बैठे यूं इतराना ठीक नहीं !

बैठे बैठे यूं इतराना ठीक नहीं !

नजरों से तीर चलाना ठीक नहीं !!

हुश्न दिया है खुदा ने रखना संभाल कर!

यू हद से गुजर जाना ठीक नहीं!!

Leave a Reply