मै कैसे भूल जाऊँ वह मिलन के मंजर सुहाने !

मै कैसे भूल जाऊँ वह मिलन के मंजर सुहाने !

घर उसका याद आने लगा मैखाने की तरफ !
चल दिए हम भी उस तरफ दीवाने की तरह !!

उसकी बाहें मेरे गले का हार थी दोस्तों !
वह जो आज मिलता है मुझसे बेगानो की तरह !!
उसे याद नहीं शायद वो भूल गया सब कुछ !
हम उसकी याद में जला करते है परवानो की तरह !!
मै कैसे भूल जाऊँ वह मिलन के मंजर सुहाने !
कि उसने खुद को पेश किया था पैमाने कि तरह !!

ghar usaka yaad aane laga maikhaane kee taraph !

chal die ham bhee us taraph deevaane kee tarah !!

usakee baahen mere gale ka haar thee doston !

vah jo aaj milata hai mujhase begaano kee tarah !!

use yaad nahin shaayad vo bhool gaya sab kuchh !

ham usakee yaad mein jala karate hai paravaano kee tarah !!

mai kaise bhool jaoon vah milan ke manjar suhaane !

ki usane khud ko pesh kiya tha paimaane ki tarah !!

Leave a Reply