सदियों से हम तकिये में मुँह छिपा के रोते आये है !

सदियों से हम तकिये में मुँह छिपा के रोते आये है !

क्योकि अपने साथ कुछ इसी तरह के हादसे होते आये है !!

Leave a Reply