जिंदगी हादसों में अपनी तमाम हुई जाती है !



जिंदगी हादसों में अपनी तमाम हुई जाती है !हर एक हसरत मेरी यहाँ नाकाम हुई जाती है !!भरोसा दिलाकर लुटा है मेरे यार ने मुझको !मुहब्बत हर मोड़ पर मेरी बदनाम हुई जाती है !!

जिंदगी है और दिले  नादाँन है !क्या सफर है और क्या सामान है !!मेरे गम को भी समझ तो दिखिए हुजूर !मुस्कुरा देना तो बहुत आसान है !!
जब भी मिला तो मिल के दिल को दुखा गया !बिछड़ा तो याद बनके रंगो में समां गया !!कितना करीब था वो सभी दूरियों के साथ !देकर हसींन  ख्वाब वो मुझको सुला गया !!

No comments

Powered by Blogger.