ये सर्द रात कोई किस तरह गुजारेगा !


ये सर्द रात कोई किस तरह गुजारेगा ! हवा चली तो लहू के लहू पुकारेगा!! यह सोचता हूं कि इस बार उनसे मिलने को ! वो अपने बाल किस अंदाज में सभरेगा !! सारी दुनिया से थे अनजान हम जिनके लिए ! हाय वहीं हमसे अंजान बने बैठे हैं !! इंतजार उनका यह दिले मुस्ताक ना कर ! वह किसी और के मेहमान बने बैठे हैं!! वह दिल ही क्या जो तुमने मिलने की दुआ ना करे! मैं तुमको भूल कर जिंदा रहूं ये खुदा ना करे !! रहेगा साथ तेरा प्यार मेरी जिंदगी बनकर ! और ये बात है कि मेरी जिंदगी वफा ना करे !! वह कह कर चले इतनी मुलाकात बहुत है! मैंने कहा रुक जा अभी रात बहुत है!! आंसू मेरे थम जाए तो फिर शौक से जाना ! ऐसे में कहां जाओगी बरसात बहुत हैं!! वो जब अपने हाथों को आँसमा की तरफ उठाते हैं! उस वक्त उनको देखने वालों के छक्के छूट जाते हैं !! इस जवानी में चुस्त कपड़े पहनना भी कयामत है! वह जब अंगड़ाई लेते हैं तो कपड़ों के टांके टूट जाते हैं!!

 


ये सर्द रात कोई किस तरह गुजारेगा !


हवा चली तो लहू के लहू पुकारेगा!!


 यह सोचता हूं कि इस बार उनसे मिलने को !


वो अपने बाल किस अंदाज में सभरेगा !!



सारी दुनिया से थे अनजान हम जिनके लिए !

हाय वहीं हमसे अंजान बने बैठे हैं !!

इंतजार उनका यह दिले मुस्ताक ना कर !

वह किसी और के मेहमान बने बैठे हैं!!


वह दिल ही क्या जो तुमने मिलने की दुआ ना करे!


 मैं तुमको भूल कर जिंदा रहूं ये खुदा ना करे !!


रहेगा साथ तेरा प्यार मेरी जिंदगी बनकर !


और ये बात है कि मेरी जिंदगी वफा ना करे !!
वह कह कर चले इतनी मुलाकात बहुत है!


 मैंने कहा रुक जा अभी रात बहुत है!!


 आंसू मेरे थम जाए तो फिर शौक से जाना !


ऐसे में कहां जाओगी बरसात बहुत हैं!!



वो जब अपने हाथों को आँसमा की तरफ उठाते हैं!


 उस वक्त उनको देखने वालों के छक्के छूट जाते हैं !!


इस जवानी में चुस्त कपड़े पहनना भी कयामत है!


 वह जब अंगड़ाई लेते हैं तो कपड़ों के टांके टूट जाते हैं!!



No comments

Powered by Blogger.