जिंदगी हादसों में अपनी तमाम हुई जाती है !

जिंदगी हादसों में अपनी तमाम हुई जाती है !
हर एक हसरत मेरी यहाँ नाकाम हुई जाती है !!
भरोसा दिलाकर लुटा है मेरे यार ने मुझको !
मुहब्बत हर मोड़ पर मेरी बदनाम हुई जाती है !!



जिंदगी है और दिले नादाँन है !
क्या सफर है और क्या सामान है !!
मेरे गम को भी समझ तो दिखिए हुजूर !
मुस्कुरा देना तो बहुत आसान है !!



जब भी मिला तो मिल के दिल को दुखा गया !
बिछड़ा तो याद बनके रंगो में समां गया !!
कितना करीब था वो सभी दूरियों के साथ !
देकर हसींन ख्वाब वो मुझको सुला गया !!



जिंदगी हादसों में अपनी तमाम हुई जाती है !



Jindagee haadason mein apanee tamaam huee jaatee hai !
Har ek hasarat meree yahaan naakaam huee jaatee hai !!
Bharosa dilaakar luta hai mere yaar ne mujhako !
Muhabbat har mod par meree badanaam huee jaatee hai !!



Jindagee hai aur dile naadaann hai !
Kya saphar hai aur kya saamaan hai !!
Mere gam ko bhee samajh to dikhie hujoor !
Muskura dena to bahut aasaan hai !!



Jab bhee mila to mil ke dil ko dukha gaya !
Bichhada to yaad banake rango mein samaan gaya !!
Kitana kareeb tha vo sabhee dooriyon ke saath !
Dekar haseenn khvaab vo mujhako sula gaya !!



Life happens in its own way in accidents!
Every Hasrat fails me here !!
My friend has robbed me by assuring me!
Love gets me infamous at every turn !!
 Life is alive and heartless!
What a journey and what a luggage !!
See my gum too, see it
It is very easy to smile !!
Whenever found, the mill's heart was hurt!
As a remembrance, I got absorbed in colors.
How close he was with all the distances!
Haseen Khwab gave me sleep!

No comments

Powered by Blogger.