मोहब्बत और रोने मुस्कुराने का नाम है!

मोहब्बत और रोने मुस्कुराने का नाम है!  गैरों के गम अपनाने का नाम है!!  किसी के दिल को तोड़ना मोहब्बत नहीं ! मोहब्बत तो मर मिट जाने का नाम है!!  रुख से पर्दा हटाया ना करो ! हर शाम ख्यालों में आया ना करो !! एक रोज जान ले लेगी आपकी ये हंसी ! इस तरह तीर नजरों से चलाया ना  करो!!  रुसवाई  जिंदगी का मुकद्दर हो गई ! मेरे दिल की देवी आज पत्थर हो गई !! जिसे रात दिन पाने की ख्वाब देखे ! वो बेवफा किसी और की हमसफर हो गई!!  रेत पर नाम लिखने से क्या फायदा ! एक आएगी लहर कुछ बनेगा नहीं !! तुमने पत्थर का दिल मुझको कह दिया!  अरे !पत्थरो पे लिखोगे मिटेगा नहीं!!  ये इनायतें गज़ब की बाला की मेहरबानी ! मेरी खैरियत थी पूछी किसी और की जवानी !! मेरा गम रुला  चुका है तुझे बिखरी  जुल्फे वाले!  यह घटा बता रही है कि बरस चुका है पानी!!  यह दिल हमारा जुल्म की जंजीर के काबिल ना था ! मैं अभी मायूस था तासीर के काबिल ना था !! तुमसे एक तस्वीर ही तो मांगी ,तुम्हें ना मांगा था ! अरे !आशिके दिल क्या तेरी तस्वीर के काबिल न था!!

मोहब्बत और रोने मुस्कुराने का नाम है!

 गैरों के गम अपनाने का नाम है!! किसी के दिल को तोड़ना मोहब्बत नहीं !मोहब्बत तो मर मिट जाने का नाम है!!
रुख से पर्दा हटाया ना करो !हर शाम ख्यालों में आया ना करो !!एक रोज जान ले लेगी आपकी ये हंसी !इस तरह तीर नजरों से चलाया ना  करो!!

रुसवाई  जिंदगी का मुकद्दर हो गई !

मेरे दिल की देवी आज पत्थर हो गई !!जिसे रात दिन पाने की ख्वाब देखे !वो बेवफा किसी और की हमसफर हो गई!!
रेत पर नाम लिखने से क्या फायदा !एक आएगी लहर कुछ बनेगा नहीं !!तुमने पत्थर का दिल मुझको कह दिया! अरे !पत्थरो पे लिखोगे मिटेगा नहीं!!

ये इनायतें गज़ब की बाला की मेहरबानी !

मेरी खैरियत थी पूछी किसी और की जवानी !!मेरा गम रुला  चुका है तुझे बिखरी  जुल्फे वाले! यह घटा बता रही है कि बरस चुका है पानी!!
ह दिल हमारा जुल्म की जंजीर के काबिल ना था !मैं अभी मायूस था तासीर के काबिल ना था !!तुमसे एक तस्वीर ही तो मांगी ,तुम्हें ना मांगा था !अरे !आशिके दिल क्या तेरी तस्वीर के काबिल न था!!

No comments

Powered by Blogger.