निगाहें नाज तेरी मस्ताना कर गई!

निगाहें नाज तेरी मस्ताना कर गई! सारी दुनिया से ही बेगाना कर गई !! तूने एक बार मुस्कुराकर क्या देखा ! तेरी वही अदा मुझे दीवाना कर गई!!  नसीब तेरे दर पर आजमाने आया हूं!  तुमको अपनी कहानी सुनाने आया हूं!!  गिरा भी दो मेरी हालत पर दो आंसू!  अपने दिल की लगी आग बुझाने आया हूं!!  ना हौसले न इरादे बदल रहे हैं लोग!  थके थके से हैं मगर फिर भी चल रहे हैं लोग!!  न वफा न प्यार न वसूल कोई ! न जाने कौन से सांचे में ढल रहे हैं लोग!!
निगाहें नाज तेरी मस्ताना कर गई!सारी दुनिया से ही बेगाना कर गई !!तूने एक बार मुस्कुराकर क्या देखा !तेरी वही अदा मुझे दीवाना कर गई!!
नसीब तेरे दर पर आजमाने आया हूं! तुमको अपनी कहानी सुनाने आया हूं!! गिरा भी दो मेरी हालत पर दो आंसू! अपने दिल की लगी आग बुझाने आया हूं!!
ना हौसले न इरादे बदल रहे हैं लोग! थके थके से हैं मगर फिर भी चल रहे हैं लोग!! न वफा न प्यार न वसूल कोई !न जाने कौन से सांचे में ढल रहे हैं लोग!!

No comments

Powered by Blogger.