जिंदिगी भर  रुलाने  के लिये !

हजारों खुशिया कम है ! गम एक भुलाने के लिये !

हजारों  खुशिया कम है ! गम एक  भुलाने के लिये !

एक गम काफी है ! जिंदिगी भर  रुलाने  के लिये !!

हुशन  जवानी पर  एतबार  करने वाले अक्सर धोखा  खाते है !

बड़े  कातिल  है ये  नशीले  नयन  वाले मगर बेगुनाह नज़र आते  है !!

Continue Reading

फरियाद तेरी सुनके कहते है ये लोग !

फरियाद तेरी सुनके कहते है ये लोग !

फरियाद तेरी सुनके कहते है ये लोग !

अरे ! हालत की दीवार गिरा क्यों नहीं देते !!

कुछ और जालिमत है जो कहते है कि कासिद !

अरे ! दुश्मने जॉ है भुला क्यों नहीं देते !!

Continue Reading

सुना है चाहत में आँख जुबा होती है !

सुना है चाहत में आँख जुबा होती है !

सुना है चाहत में आँख जुबा होती है !

सच्ची चाहत तो मगर बेजुबा होती है !!

आप गम ही करते है तो बेशक करे !

गम सहने से तो  चाहत जुबा होती  है !!

Continue Reading

मुहबबत की राहो पे चलना संभल के !

मुहबबत की राहो पे चलना संभल के !

मुहबबत की राहो पे चलना संभल के !

यहाँ जो भी आया गया हाथ मलके !!

न पाया किसी ने  महोबत में मंजिल !

कदम डगमगाये ज़रा दूर चलके !!

हमें ढूढ़ती  है बहारों की दुनिया !

कहाँ आ गए हम चमन से निकलके !!

कही टूट न जाये ये हसरत भरा दिल !

न यू  तीर  भोके निशाना बदले !!

Continue Reading

कितनी उलझनों का शिकार है ज़िन्दगी !

कितनी उलझनों का शिकार है ज़िन्दगी !

कितनी उलझनों का शिकार है ज़िन्दगी !

एक मुदत से अपनी बेक़रार है ज़िन्दगी !!

हर सास बयाज की सूरत हो रहा है अदा !

किसी महाजन से लिया उधार है ज़िन्दगी !!

कोई जोश है न उमंग है  न ख्वाईस न आरज़ू !

जबसे बिछुड़े तुम तबसे  बेक़रार है जिंदिगी !!

चलो  कही और चले गम न हो जहां !

इस शहर में तो दर्द का  अम्बार है ज़िन्दगी !!

Continue Reading

बेबफा दुनिया में हमने बेबफाई देख ली!

बेबफा दुनिया में हमने बेबफाई देख ली !

बेबफा दुनिया में हमने बेबफाई देख ली !

प्यार के बदले में अपनी जगहसाई देख ली !!

जिनके कारण हम हुए बर्बाद  वो खुसहाल है!

जो  मुकदर में थी अपने वो बुराई देख ली !!

कर भला तो हो भला  अब ये पुराणी बात  है !

कुछ भला होता नहीं करके भलाई देख ली !!

Continue Reading

उम्र जलवो में बशर हो ये जरूरी तो नहीं !

उम्र जलवो में बशर हो ये जरूरी तो नहीं !

उम्र जलवो में बशर हो ये जरूरी तो नहीं !

मय  आठो पहर हो ये जरूरी तो नहीं !!

चश्म -ए-शाकी से पियो या लब-ए-सागर  से पियो !

हर शब् -ए-गम  की शहर हो ये ज़रूरी तो नहीं !!

नींद तो दर्द के बिस्तर में भी आ सकती है !

उनके आगोश में ये सर हो ये ज़रूरी तो नहीं !!

शेख करता है मस्जिद में खुदा को सजदे !

उनके सजदों में असर हो ये ज़रूरी तो नहीं !!

सबकी नज़रों में हो साकी ये ज़रूरी तो नहीं !

हर शब् -ए- गम  की शहर हो ये ज़रूरी तो नहीं !!

Continue Reading