ऐसी तन्हाई का जवाब नहीं !

ऐसी तन्हाई का जवाब नहीं !
ऐसी तन्हाई का जवाब नहीं !
ऐसी तन्हाई का जवाब नहीं !

जाने किस किस की मौत आयी है !
आज रुख का कोई नकाब नहीं !!
वो करम उंगलियों पे गिनते है !
जुल्म का जिनके कोई हिसाब नहीं !!
तुम नहीं गम नहीं शराब नहीं !
ऐसी तन्हाई का जवाब नहीं !!
गा गा के इसको पढ़ा कीजिये !
दिल से बेहतर कोई किताब नहीं !!

jaane kis kis kee maut aayee hai !

aaj rukh ka koee nakaab nahin !!

vo karam ungaliyon pe ginate hai !

julm ka jinake koee hisaab nahin !!

tum nahin gam nahin sharaab nahin !

aisee tanhaee ka javaab nahin !!

ga ga ke isako padha keejiye !

dil se behatar koee kitaab nahin !!

Who knows what death has come!
No mask of attitude today !!
They count on deeds!
They have no accounts of atrocities !!
You do not gum, no alcohol!
No answer to such loneliness !!
Please read this by singing
No book better than heart !!

Continue Reading

तौवा पीने से किया करते थे !

तौवा पीने से किया करते थे !

तौवा पीने से किया करते थे !

जुल्फों की साये में पिया करते थे !!

कैसे भूलेगा दीवाना वो गुजरा जमाना !

जब वो मुझसे बेइंतहा प्यार किया करते थे !!

Continue Reading

कई गम मिले हैं जिन्हें जुवा नहीं मिली !

कई गम मिले हैं जिन्हें जुवा नहीं मिली !

कई गम मिले हैं जिन्हें जुवा नहीं मिली !

भटकता रहा हूं अंधेरों में समा नहीं मिली !!

अपने अकेलेपन की कशिश बस इतनी सी है! 

कि जिंदगी में हमें किसी से वफा नहीं मिली !!

Continue Reading

इश्क के गुलशन को गुले गुलजार न करे !

इश्क के गुलशन को गुले गुलजार न करे !

इश्क के गुलशन को गुले गुलजार न करे !
ये नंदा इंसान किसी से प्यार ना कर !!
 बहुत धोखे देते हैं मोहब्बत में हुस्न वाले !
 इन हसीनों का भूल कर भी ऐतबार ना कर !!

Continue Reading

गमे आशिकों में जो कलम का  सहारा मिला।

गमे आशिकों में जो कलम का  सहारा मिला।

गमे आशिकों में जो कलम का  सहारा मिला।

 डूबती कश्ती को जैसे कोई किनारा मिला।।
 मैंखाने में जाकर जिस दिल को टटोला मैंने।
 मुझे वह दिल ही मोहब्बत का मारा मिला।।

Continue Reading

जिक्र आता है उनका ही मेरे हर फसाने में।

जिक्र आता है उनका ही मेरे हर फसाने में। 

जिक्र आता है उनका ही मेरे हर फसाने में। 

जा से  ज्यादा चाहा था जिसे जमाने में।।

तन्हाइयों में उनकी यादों का सहारा ना मिला।।

नाकाम रहे जिन्हें हम भुलाने में।।

Continue Reading

तेरे चेहरे पर कोई गम नहीं देखा जाता।

तेरे चेहरे पर कोई गम नहीं देखा जाता। 

तेरे चेहरे पर कोई गम नहीं देखा जाता। 

हमसे उतरा हुआ परचम नहीं देखा जाता।।

तुम बुलाओगे तो हम चले आएंगे। 

तुमसे मिलने का मौसम नहीं देखा जाता।।

Continue Reading

फनाह के बाद भी मुझको सत्ता रहा है कोई !

 

फनाह के बाद भी मुझको सत्ता रहा है कोई !

निशान मेरी कब्र के मिटा रहा है कोई !!

फनाह के बाद भी मुझको सत्ता रहा है कोई !
फनाह के बाद भी मुझको सत्ता रहा है कोई !

Continue Reading