बैठे बैठे यूं इतराना ठीक नहीं !

बैठे बैठे यूं इतराना ठीक नहीं !

बैठे बैठे यूं इतराना ठीक नहीं !

नजरों से तीर चलाना ठीक नहीं !!

हुश्न दिया है खुदा ने रखना संभाल कर!

यू हद से गुजर जाना ठीक नहीं!!

Continue Reading

खुदा तू ही बता हमारा क्या होगा।

खुदा तू ही बता हमारा क्या होगा।

खुदा तू ही बता हमारा क्या होगा।

उजड़े हुए दिल का सहारा क्या होगा।

घबराहट सी होती मोहब्बत की नाव में बैठे के।

मगर मझधार यह है तो किनारा क्या होगा।।

Continue Reading