तुम्हारी जुल्फों की साये में शाम कर लूंगा !

तुम्हारी जुल्फों की साये में शाम कर लूंगा ! सफर इस उम्र का पल में तमाम कर लूंगा !! नजर मिलाई तो पूछूंगा इश्क का अन्जाम ! नजर झुकाई तो खली सलाम कर लूंगा !!

तुम्हारी जुल्फों की साये में शाम कर लूंगा !
सफर इस उम्र का पल में तमाम कर लूंगा !!
नजर मिलाई तो पूछूंगा इश्क का अन्जाम  !
नजर झुकाई तो खली सलाम कर लूंगा !!

Continue Reading

तौवा पीने से किया करते थे !

तौवा पीने से किया करते थे !जुल्फों की साये में पिया करते थे !!कैसे भूलेगा दीवाना वो गुजरा जमाना !जब वो मुझसे बेइंतहा प्यार किया करते थे !!

तौवा पीने से किया करते थे !

जुल्फों की साये में पिया करते थे !!

कैसे भूलेगा दीवाना वो गुजरा जमाना !

जब वो मुझसे बेइंतहा प्यार किया करते थे !!

Continue Reading

तेरे नक्शे कदम पर सजदा कर दिया !

तेरे नक्शे कदम पर सजदा कर दिया ! यु हक़ मैंने आशिकी का अदा कर दिया !! न मैं हूं बेवफा तुम हो बेवफा ! किस्मत ने ही हम दोनों को जुदा कर दिया !!

 

तेरे नक्शे कदम पर सजदा कर दिया !

यु हक़ मैंने आशिकी का अदा कर दिया !! 

न मैं हूं बेवफा न तुम हो बेवफा ! 

किस्मत ने ही हम दोनों को जुदा कर दिया !!

Continue Reading

कई गम मिले हैं जिन्हें जुवा नहीं मिली !

कई गम मिले हैं जिन्हें जुवा नहीं मिली ! भटकता रहा हूं अंधेरों में समा नहीं मिली !! अपने अकेलेपन की कशिश बस इतनी सी है! कि जिंदगी में हमें किसी से वफा नहीं मिली !!

कई गम मिले हैं जिन्हें जुवा नहीं मिली !

भटकता रहा हूं अंधेरों में समा नहीं मिली !!

अपने अकेलेपन की कशिश बस इतनी सी है! 

कि जिंदगी में हमें किसी से वफा नहीं मिली !!

Continue Reading

इश्क के गुलशन को गुले गुलजार न करे !

इश्क के गुलशन को गुले गुलजार न करे ! ये नंदा इंसान किसी से प्यार ना कर !! बहुत धोखे देते हैं मोहब्बत में हुस्न वाले ! इन हसीनों का भूल कर भी ऐतबार ना कर !!

इश्क के गुलशन को गुले गुलजार न करे !
ये नंदा इंसान किसी से प्यार ना कर !!
 बहुत धोखे देते हैं मोहब्बत में हुस्न वाले !
 इन हसीनों का भूल कर भी ऐतबार ना कर !!

Continue Reading

आज हो गया हूं मैं तनहा मेरा कोई गमखार नहीं है!

आज हो गया हूं मैं तनहा मेरा कोई गमखार नहीं है! है मौत पर भरोसा मगर जिंदगी का इतवार नहीं है !! कभी साथ साथ जीने की कसम खाई थी यार ने ! आज उसके ही दिल में मेरे लिए प्यार नहीं है !!

आज हो गया हूं मैं तनहा मेरा कोई गमखार नहीं है!

 है मौत पर भरोसा मगर जिंदगी का इतवार नहीं है !!

कभी साथ साथ जीने की कसम खाई थी यार ने !
आज उसके ही दिल में मेरे लिए प्यार नहीं है !!

Continue Reading

बचपन में लोग मेरी तस्वीर मांगते थे घर में सजाने के लिए !

बचपन में लोग मेरी तस्वीर मांगते थे घर में सजाने के लिए ! दौड़े जवानी में हसीनो ने तस्वीर मांगे दिल बहलाने के लिए !! अब बुढ़ापा है लोग तस्वीर मांगते हैं बच्चों को डराने के लिए!!!

बचपन में लोग मेरी तस्वीर मांगते थे घर में सजाने के लिए !

दौड़े जवानी में हसीनो ने तस्वीर मांगे दिल बहलाने के लिए !!

अब बुढ़ापा है लोग तस्वीर मांगते हैं बच्चों को डराने के लिए!!!

Continue Reading

फर्क होता है बहुत घर और मकान में!

फर्क होता है बहुत घर और मकान में! जितना कि होता है आदमी और इंसान में !! राम इस दौर में बनवास में ही रहते हैं जबकि! रावण भरे पड़े कदम कदम पर इस जहान में!!

फर्क होता है बहुत घर और मकान में!

 जितना कि होता है आदमी और इंसान में !!

राम इस दौर में बनवास में ही रहते हैं जबकि!

रावण भरे पड़े कदम कदम पर इस जहान में!!

Continue Reading

ना पीना हराम है ना पिलाना हराम है !

ना पीना हराम है ना पिलाना हराम है ! पीने के बाद होश में आना हराम है !! किसने कहा शराब का पीना हराम है! अरे इसके पीए बगैर तो जीना हराम है!!

      ना पीना हराम है ना पिलाना हराम है !

पीने के बाद होश में आना हराम है !!

किसने कहा शराब का पीना हराम है!

 अरे इसके पीए बगैर तो जीना हराम है!!

Continue Reading

तुम अपनी जुल्फों का जुड़ा बना लो मैडम!

 

तुम अपनी जुल्फों का जुड़ा बना लो मैडम! क्योंकि यह साले नाग जैसे घूमते हैं !! पकड़ कर रख लेगा बजाकर बिन कोई ! क्योंकि गलियों में आजकल सपेरे घूमते हैं!!

 

 तुम अपनी जुल्फों का जुड़ा बना लो मैडम! 

क्योंकि यह साले नाग जैसे घूमते हैं !!

पकड़ कर रख लेगा बजाकर बिन कोई !

क्योंकि गलियों में आजकल सपेरे घूमते हैं!!

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Continue Reading

तेरे चेहरे पर कोई गम नहीं देखा जाता।

तेरे चेहरे पर कोई गम नहीं देखा जाता।

तेरे चेहरे पर कोई गम नहीं देखा जाता। 

हमसे उतरा हुआ परचम नहीं देखा जाता।।

तुम बुलाओगे तो हम चले आएंगे। 

तुमसे मिलने का मौसम नहीं देखा जाता।।

Continue Reading

जिक्र आता है उनका ही मेरे हर फसाने में।

जिक्र आता है उनका ही मेरे हर फसाने में।

जिक्र आता है उनका ही मेरे हर फसाने में। 

जा से  ज्यादा चाहा था जिसे जमाने में।।

तन्हाइयों में उनकी यादों का सहारा ना मिला।।

नाकाम रहे जिन्हें हम भुलाने में।।

Continue Reading

गमे आशिकों में जो कलम का  सहारा मिला।

गमे आशिकों में जो कलम सहारा मिला डूबती कश्ती को जैसे कोई किनारा मिला मैं खाने में जाकर जिस दिल को टटोला मैंने मुझे वह दिल ही मोहब्बत का मारा मिला

गमे आशिकों में जो कलम का  सहारा मिला।

 डूबती कश्ती को जैसे कोई किनारा मिला।।
 मैंखाने में जाकर जिस दिल को टटोला मैंने।
 मुझे वह दिल ही मोहब्बत का मारा मिला।।

Continue Reading

खुदा तू ही बता हमारा क्या होगा।

खुदा तू ही बता हमारा क्या होगा। उजड़े हुए दिल का सहारा क्या होगा। घबराहट सी होती मोहब्बत की नाव में बैठे के। मगर मझधार यह है तो किनारा क्या होगा।।
wish image

खुदा तू ही बता हमारा क्या होगा।

उजड़े हुए दिल का सहारा क्या होगा।

घबराहट सी होती मोहब्बत की नाव में बैठे के।

मगर मझधार यह है तो किनारा क्या होगा।।

Continue Reading

फरेब था या हंसी मैं आशिकी समझ बैठा।

फरेब था या हंसी मैं आशिकी समझ बैठा। मौत को ही मैं अपनी जिंदगी समझ बैठा।। वक़्त की गर्दिश थी या बदनसीबी मेरी। अपने साए को ही मैं अपनी चांदनी समझ बैठा।।

फरेब था या हंसी मैं आशिकी समझ बैठा। 

मौत को ही मैं अपनी जिंदगी समझ बैठा।।

वक़्त की गर्दिश थी या बदनसीबी मेरी।

अपने साए को ही मैं अपनी चांदनी समझ बैठा।।

Continue Reading

ना इनकी नजर में मोहब्बत मिलेगी।

ना इनकी नजर में मोहब्बत मिलेगी। ना अदाओं में सातगाणी मिलेगी।। इन हसीनो से तुमने नजर जो मिलाई। तो मिट्टी में तेरी जवानी मिलेगी।।

ना इनकी नजर में मोहब्बत मिलेगी।

 ना अदाओं में सातगाणी मिलेगी।।

इन हसीनो से तुमने नजर जो मिलाई।

तो मिट्टी में तेरी जवानी मिलेगी।।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Continue Reading

गम की धूप में कभी तो नहा कर देखो।

गम की धूप में कभी तो नहा कर देखो। जिंदगी क्या है किताबों को हटा कर देखो।। आरजू ,तमन्नाए ,हसरते, उम्मीद, ख्वाब सब फरेब है। मगर जिंदगी में एक बार खा कर तो देखो।।

गम की धूप में कभी तो नहा कर देखो।

 जिंदगी क्या है किताबों को हटा कर देखो।।

आरजू ,तमन्नाए ,हसरते, उम्मीद, ख्वाब सब फरेब है। 

 मगर जिंदगी में एक बार खा कर तो देखो।।

Continue Reading

अगर आंसू तेरे निकले तो वह आंखें मेरी हो!

अगर आंसू तेरे निकले तो वह आंखें मेरी हो! अगर दिल तेरा धड़के तो वो धड़कन भी मेरी हो !! खुदा करे कि दोस्ती इतनी गहरी हो ! की नौकरी तू करें और सैलरी मेरी होम !!

अगर आंसू तेरे निकले तो वह आंखें मेरी हो!

 अगर दिल तेरा धड़के तो वो धड़कन भी मेरी हो !! 

खुदा करे कि दोस्ती इतनी गहरी हो ! 

की नौकरी तू करें और सैलरी मेरी होम !!

Continue Reading

जिसको मैंने दिल दिया वह दिल्ली चली गई!

जिसको मैंने दिल दिया वह दिल्ली चली गई! जिसको मैंने प्यार किया वह पटना चली गई!! सोचा कि कमबख्त मर ही जाए! तो जब छुआ बिजली का तार तो साली बिजली भी चली गई!!

जिसको मैंने दिल दिया वह दिल्ली चली गई! 

जिसको मैंने प्यार किया वह पटना चली गई!!

 सोचा कि कमबख्त मर ही जाए! 

तो जब छुआ बिजली का तार तो साली बिजली भी चली गई!!

Continue Reading